U.P. Web News
|
|
|
|
|
|
|
|
|
     
  News  
 

   

Home>News 

अधिवक्ता कल्याण कोष के लिए 60 करोड़ रूपये स्वीकृत

tags:

Source: U.P.Samachar Sewa, www.upwebnews.com

Publised on : 2011-04-20      Time 23:38 ,             Last updat on: 2011-04-20      Time 23:38

 

लखनऊ, 20 अप्रैल। (उप्रससे)। प्रदेश के वकीलों के लिए संचालित होने वाली कल्याणकारी योजनाओं के लिए 60 करोड़ रूपये की स्वीकृति प्रदान कर दी गई है। उक्त धनराशि प्रदान किये जाने की घोषणा मुख्ययमंत्री सुस्री मायावती ने 14 अप्रैल को डा.भीमराव अम्बेडकर की जयंती के अवसर पर की थी।
राय सरकार ने आज इस संबंध में स्वीकृति जारी करते हुए अधिवक्ता कल्याण निधि के सदस्य सचिव सूचित किया है कि वे अपेक्षित कार्यवाही पूरी करें। इस संबंध में आज शासनादेश भी जारी कर दिया गया। प्रदेश सरकार ने उत्तर प्रदेश अधिवक्ता न्यासी समिति को कल्याण कोष के लिए यह धनराशि प्रदान करने का फैसला किया है। इस धनराशि से अधिवक्ताओं के बीमा, दिवगंत अधिवक्ताओं की विधवाओं को सहायता, नये चैंबर के निर्माण, पुल्तकालय आदि का निर्माण कराया जाएगा।
अम्बेडकर गांवों में खुलेंगे आईटीआई
लखनऊ, 20 अप्रैल। (उप्रससे)। प्रदेश सरकार अब अम्बेडकर गांवों में राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आईटीआई) खोलेगी। इस आशय के निर्देश आज यहां प्रदेश के व्यवसायिक शिक्षा एवं रेशम वस्त्र उद्योग मंत्री जगदीश नारायण राय ने दिये। वे यहां विभागीय समीक्षा बैठक में अधिकारियों को निर्देश दे रहे थे।
श्री राय ने अधिकारियों से कहा कि ग्रामीण अनुसूचित जाति के छात्र-छात्राओं को तकनीकी शिक्षा देने के लिए डा.अम्बेडकर गांवों में आईटीआई खोलने के लिए प्रस्ताव बनायें। इसके अलावा श्री राय ने निर्देश दिये कि सभी आईटीआई में शैक्षिक सत्र हर हालत में अगस्त में आरम्भ होना चाहिए। उन्होंने कहा कि जिन स्थानों पर आईटीआई के नवीन भवनों का निर्माण हो रहा है वहां जाकर अधिकारी निरीक्षण करें। यदि काम की गति धीमी हो और निर्माण गुणवत्ता के अनुसार न हो तो निर्माण एजेंसी को बदल दिया जाए। विभागीय समीक्षा बैठक में प्रमुख सचिव व्यवसायिक शिक्षा वीरेश कुमार, संयुक्त सचिव सुश्री अनीता श्रीवास्तव समेत कई अधिकारी मौजूद थे।
किसानों को खेत में नरई न जलाने दें: राहत आयुक्त
लखनऊ, 20 अप्रैल। (उप्रससे)। प्रदेश सरकार ने सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि किसानों को खेतों में खड़ी नरई जलाने से रोकें। उन्हें किसी भी हालत में नरई न जलाने दें। इसके लिए प्रचार प्रसार भी करें। क्योंकि नरई जलाने से आग लगने की घटनाएं होती हैं। ये निर्देश आज यहां प्रदेश के राहत आयुक्त के.के.सिंहा ने जारी किये।
ष्ठी सिंहा ने सभी जिलाधिकारियों को निर्देशित किया कि जिन किसानों द्वारा गेहूं की कटाई कंबाइन से करायी जाती है। उनमें गेहं की नरई रह जाती है। इसे बाद में किसान जला देते हैं। इससे ही अनिकाण्ड होतें हैं। उन्होंने इस पर नजर रखने को कहा है। इसके अलावा श्री सिंहा ने कहा कि जिन गावों में अनिकाण्ड हुए हैं। वहा ंअन्गिकाण्ड पीडितों को स्कूलों में सेल्टर होम बनाकर रखा जाए। सभी जिलाधिकारी आवश्यकतानुसार पीडितों को सेल्टर होमों मे रहने की व्यवस्था सुनिश्चित करें तथा उन्हें आर्थिक सहायता उपलब्ध करायें।
श्री सिंहा ने निर्देश दिये कि जिन पीड़ितों का इलाज अल्प समय में संभव है उन्हें ढाई हजार रूपये था जिनका इलाज 15 दिन से अधिक चलेगा उन्हें साढे सात हजार रूपये प्रदान किये जाएं। इसके साथ ही उन्होंने पशुओं की हानि होने पर भी यथोचित सहायता देने के निर्देश दिये हैं। इसके साथ ही प्रत्येक पीड़ित परिवार को बर्तन और कपड़ो के लिए एक-एक हजार रूपये प्रदान किये जाएं।
Comments on this News & Article: upsamacharsewa@gmail.com   up_samachar@sify.com

 

 

 

 
   
 
 
                               
 
»
Home  
»
About Us  
»
Matermony  
»
Tour & Travels  
»
Contact Us  
 
»
News & Current Affairs  
»
Career  
»
Arts Gallery  
»
Books  
»
Feedback  
 
»
Sports  
»
Find Job  
»
Astrology  
»
Shopping  
»
News Letter  
up-webnews | Best viewed in 1024*768 pixel resolution with IE 6.0 or above. | Disclaimer | Powered by : omni-NET