U.P. Web News
|

Article

|
|
BJP News
|
Election
|
Health
|
Banking
|
|
Opinion
|
     
   News  
 

   

नोटबंदी: ग्रामीण बैंकों के प्रति प्रवर्तक बैंकों का व्यवहार दुर्भावनापूर्ण
Tags: Gramin Bank of Aryavart Officers Association, President Rakesh Kumar Shukla
Publised on : 01 December  2016,  Last updated Time 17:58
लखनऊ, 01 दिसम्बर 2016। (उ.प्र.समाचार सेवा)। नगदी की समस्या से जूझ रहे ग्रामीण बैंकों के प्रति उनके प्रवर्तक बैंकों का व्यवहार दुर्भावनापूर्ण है। इस कारण ग्रामीण बैंकों की नेतृत्व क्षमता पर प्रश्नचिन्ह लगा है। यह बात ग्रामीण बैंक आफ आर्यावर्त अधिकारी एसोसिएशन के अध्यक्ष राकेश कुमार शुक्ल ने कही।

उन्होंने कहा है कि बैंकों के ग्राहक संयम बरतें तथा बैंक स्टाफ के साथ सहयोग करें। एक बयान में शुक्ल ने कहा कि बैंक की प्रदेश में 7 सौ से अधिक शाखाएं हैं। सभी शाखाएं नोटबंदी के बाद से नगदी की कमी से जूझ रही हैं। इस कारण कई शाखाओं में ग्राहक नोट की कमी के चलते आक्रोशित और आन्दोलित होकर नाराजगी व्यक्त कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि ग्रामीण अपने प्रवर्तक बैंकों करेंसी चेस्ट से धनाहरण करते हैं। उन्होंने कहा कि उनका सगठन स्थानीय स्तर पर अधिकारियों तथा शीर्ष स्तर पर केन्द्र सरकार तथा रिजर्व बैंक के साथ वार्ता करके हल निकालने की कोशिश कर रहा है।

   
  Share as:  

News source: UP Samachar Sewa

News & Article:  Comments on this upsamacharsewa@gmail.com  

 
 
 
                               
 
»
Home  
»
About Us  
»
Matermony  
»
Tour & Travels  
»
Contact Us  
 
»
News & Current Affairs  
»
Career  
»
Arts Gallery  
»
Books  
»
Feedback  
 
»
Sports  
»
Find Job  
»
Astrology  
»
Shopping  
»
News Letter  
up-webnews | Best viewed in 1024*768 pixel resolution with IE 6.0 or above. | Disclaimer | Powered by : omni-NET